राष्ट्रवाद के विरोधियों को वोट देने से होगा मुसलमानों का विकास ? जनता चाहती क्या है ?

इस देश में सेकुलरिज्म के नाम पर हिन्दुओं को गाली देना कोई नयी बात नहीं है | जो नेता जितना ज्यादा हिन्दुओं और हिन्दू धर्म को गाली देगा वो उतना ही ज्यादा सेक्युलर माना जाता है | सेकुलरिज्म का रोग अब इस हद तक बढ़ गया है कि इसकी सीमा में सिर्फ हिन्दू विरोध नहीं बल्कि हर एक राष्ट्रवादी शक्ति का विरोध शामिल हो गया है | सेक्युलर लोग अब खुलकर हिन्दू धर्म के साथ साथ सेना तक का विरोध करने लगे हैं | वैसे मैं इस तरह के शब्दों का उपयोग कभी करता नहीं हूँ लेकिन मैं आज खुलकर पूछना चाहता हूँ कि क्या सैनिक किसी के बाप के गुलाम हैं जो वो जनता के लिए अपनी जान भी देते रहे और उन से गाली भी सुनते रहें ?

एक बार किसी नेता को सेक्युलर होने का तमगा मिल गया तो ऐसे लोगों को मुसलमानों के वोट भी मिलने लगते हैं | क्या इस सब से होगा मुसलमानों का विकास ? मुसलमान तय करें कि वो सच्चा विकास चाहते हैं या फिर वो सिर्फ हिन्दुओं को गाली देने वाले नेताओं को वोट देना ही अपने जीवन का मुख्य उद्देश्य मानते हैं |

ये नीच लोग आज इस हद तक गिर गए हैं कि किसी निर्दोष की हत्या का विरोध भी यह देखकर करते हैं कि वो किस धर्म या जाति का है | यदि वो इनकी राजनैतिक समीकरणों वाले धर्म या जातियों का नहीं है तो कल क्या आज मर जाये इनको कोई फर्क नहीं पड़ता | बिना बात के कैसे किसी व्यक्ति की जाति धर्म को सामने लाया जाये यह काम इन लोगों को बखूबी आता है |

फैसला तो अब देश की जनता को करना है क्योंकि ऐसे नेताओं से मैं कोई उम्मीद नहीं रखता | जनता तय करे कि वो क्या चाहती है | शर्म की बात है कि आज भी ऐसे नेताओं को कुछ लोग वोट देते हैं | इतने सालों की गुलामी से भी यह देश कुछ नहीं सीख पाया ? यदि आप आज भी ऐसे लोगों के विरोध में एकजुट होकर खड़े नहीं हुए तो इसका दुष्परिणाम सिर्फ आप नहीं बल्कि आपकी आने वाली कई पीढ़ियां झेलेंगी | जब वो आपकी मूर्खता पर सवाल खड़े करेंगी तब आपके पास उनको देने के लिए कोई जवाब नहीं होंगे | सुधर जाइये, जाति-धर्म से ऊपर उठिये, सिर्फ राष्ट्रवाद को अपना प्रथम धर्म एवं जाति मानिये | जो अपने देश का न हो सका वो किसी का नहीं हो सकता | आपका एक गलत वोट आपको और आपकी आने वाली कई पीढियों को गुलामी की ओर धकेल सकता है | आँखें खोलिये, देश के हालात समझिये और सोच समझकर वोट कीजिये | याद रखिये, जब तक ये झूठे मक्कार तथाकथित सेक्युलर नेता शक्तिशाली हैं तब तक देश की एकता, अखंडता एवं विकास खतरे में है | यदि आप ऐसे झूठे सेक्युलर नेताओं को हराने में सहयोग देते हैं तो आप भी एक देशभक्त क्रन्तिकारी सैनिक ही कहलायेंगे |