भारत में हिंदू असुरक्षित

भारत एक ऐसा हिंदू राष्ट्र है जिसने दूसरे देशों से आए विभिन्न धर्मों के लोगों को अपने दिल में पनाह दी है और उन्हें यहां महफ़ूज़ रखा है l भारत में हिंदू बहुसंख्यक होने के बावजूद ” सर्वधर्म समभाव ” को लेकर आगे चला है और उसने सभी धर्मों को जोड़ने की कोशिश की है और देश की मुख्यधारा में लाने का प्रयास किया हैl

लेकिन इतिहास गवाह है कि गैर हिंदू संगठनों ने हमेशा आभार व्यक्त करने की जगह, हिंदुओं को आघात ही पहुंचाया हैl समय-समय पर हिंदू धर्म, हिंदू विचारधारा और हिंदुओं के भगवानों को लेकर अभद्र टिप्पणियां की गई हैं l

पिछले कुछ वर्षों से हिंदुओं को असहिष्णु दिखाने की कोशिश की जा रही हैl लेकिन हिंदुओं ने देश की तरक्की के लिए इन सभी टिप्पणियों और विश्वासघात को हमेशा से नजरअंदाज किया है l

पिछले कुछ वर्षों से देश में जो हालात उत्पन्न हुए हैं उससे हिंदुओं को आत्म मंथन करने की जरूरत हैl दादरी की घटना को देश में बढ़ा चढ़ाकर पेश किया जाता है और मालदा की घटना पर सब लोगों को साप सूंघ जाता है l

शाहरुख और आमिर जैसे कलाकारों को हिंदुओं ने बहुत ही प्रेम दिया और उन्हें मुख्य कलाकार के रूप में स्वीकार किया, इसके बावजूद भी भारत को असहिष्णु करार दे दिया गया l भारत में अगर आप हिंदुओं के हित की बात करो तो आपको RSS का एजेंट या BJP का कोई कार्यकर्ता बता दिया जाता है l गौ माता को कटने से रोका जाए या गंगा मैया की सफाई का कार्यक्रम चलाया जाए तो हम सांप्रदायिक करार दे दिए जाते हैंl

मैं एक राष्ट्र भक्त हिंदू हूं जो कि आजकल हिंदुस्तान में अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है #संगठित हिंदू समृद्ध भारत#